बेल (बिल्व) के वृक्ष को कभी न काटें, आती है यह बड़ी विपत्ति, नियमित करें दर्शन

बेल वृक्ष – जैसा  कि सभी जानते हैं बेल (बिल्व) पत्र के बगैर भगवान शिव की पूजा अधूरी होती है। भगवान शिव इतने सरल हैं कि वे केवल बेल पत्र अर्पित कर देने पर ही प्रसन्न हो जाते हैं। शास्त्रों में बेल वृक्ष को अत्यंत पुण्यदायी माना गया है। वहीं इसे क्षति पहुंचाने या काटने वाले पर कई प्रकार की विपत्तियां भी आती हैं। आइये जानते हैं शास्त्रों में बेल वृक्ष को लेकर क्या कहा गया है-

  • भगवान शिव की पूजा केवल बेल पत्र अर्पित करने से हो जाती है।
  • वायुमंडल में फैली अशुध्दियों को सोखने की क्षमता सबसे ज्यादा बेल के वृक्ष में होती है।
  • बेल वृक्ष को काटने से वंश पर बड़ी विपत्ति आती है।
  • कहा जाता है बेल वृक्ष के आसपास सांप नहीं आते ।
  • यदि किसी की शव यात्रा बेल वृक्ष के नीचे से होकर गुजरे तो उसे मोक्ष प्राप्त हो जाता है।
  • नियमित रूप से बेल वृक्ष के दर्शन करने से पापों मुक्ति मिलती है।
  • बेल वृक्ष की देखभाल करने से देवी-देवता, पितर प्रसन्न होते हैं।
  • अपने जीवन काल में व्यक्ति को बेल वृक्ष जरूर लगाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें – मनोकामना पूर्ति के लिए भगवान शिव को इन मंत्रों से करें प्रसन्न, मिलेगी सफलता और समृद्धि

|| बिल्वाष्टकम ||

 

 

[su_quote]त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रियायुधम् त्रिजन्मपाप संहारं एकबिल्वं शिवार्पणम् ॥

त्रिशाखैः बिल्वपत्रैश्र्च अच्छिद्रै: कोमलैः शुभैः शिवपूजां करिष्यामि एकबिल्वं शिवार्पणम् ॥

अखण्ड बिल्व पात्रेण पूजिते नन्दिकेश्र्वरे शुद्ध्यन्ति सर्वपापेभ्यो एकबिल्वं शिवार्पणम् ॥

शालिग्राम शिलामेकां विप्राणां जातु चार्पयेत् सोमयज्ञ महापुण्यं एकबिल्वं शिवार्पणम् ॥

दन्तिकोटि सहस्राणि वाजपेय शतानि च कोटि कन्या महादानं एकबिल्वं शिवार्पणम् ॥

लक्ष्म्या स्तनुत उत्पन्नं महादेवस्य च प्रियम् बिल्ववृक्षं प्रयच्छामि एकबिल्वं शिवार्पणम् ॥

दर्शनं बिल्ववृक्षस्य स्पर्शनं पापनाशनम् अघोरपापसंहारं एकबिल्वं शिवार्पणम् ॥

काशीक्षेत्र निवासं च कालभैरव दर्शनम् प्रयागमाधवं दृष्ट्वा एकबिल्वं शिवार्पणम् ॥

मूलतो ब्रह्मरूपाय मध्यतो विष्णुरूपिणे अग्रतः शिवरूपाय एकबिल्वं शिवार्पणम् ॥

बिल्वाष्टकमिदं पुण्यं यः पठेत् शिवसन्निधौ सर्वपाप विनिर्मुक्तः शिवलोकमवाप्नुयात् ॥[/su_quote]

[su_pullquote]इति श्री बिल्वाष्टकम संपूर्णम्[/su_pullquote]

 


Leave a Reply

Your email address will not be published.