Saturday, October 23, 2021
HomeNewsगुस्साए ऊंट ने मालिक के सिर और पैर को चबाकर  मार डाला

गुस्साए ऊंट ने मालिक के सिर और पैर को चबाकर  मार डाला

राजस्थान के बीकानेर जिले में रोंगटे खड़े करने देने वाली घटना सामने आई है. गुस्साए एक ऊंट ने मालिक को मार डाला. ऊंट ने पहले अपने माल‍िक के सिर को चबाकर धड़ से अलग कर दिया. इसके बाद वह  माल‍िक का एक पैर चबा गया.
घटना बीकानेर में लालगढ़ रेलवे कॉलोनी में रव‍िवार की सुबह की है. गुस्साए ऊंट ने क‍िकरमीसर के रहने वाले भंवर लाल को मार डाला. इस घटना के बाद मृतक भंवर लाल का शव सड़क पर ही  पड़ा रहा. लोगों की पास जाने की हिम्मत नहीं हुई. बाद में कुछ लोगों ने रस्सी पकड़कर गाड़ी को सड़क से क‍िनारे ले जाकर पेड़ से बांधा. घटना की जानकारी होने पर मृतक का बेटा चोरूराम भी पहुंचा. पुल‍िस ने बताया क‍ि मृतक भंवर लाल ऊंट गाड़ी चलाकर पर‍िवार का जीवनयापन करता  था. सुबह करीब 9 बजे वह गाड़ी लेकर रेलवे कॉलोनी जा रहा था, तभी यह घटना हुई.

इस खबर को भी पढ़े

मध्यप्रदेश में सियासी घमासान चरम पर, विधानसभा 26 मार्च तक स्थगित

मध्‍य प्रदेश में राजनीतिक घमासन चरम पर है. फ्लोर टेस्ट कराने की बीजेपी की मांग को दरकिनार करते हुए विधानसभा की कार्रवाई  26 मार्च तक स्थगित कर दी गई.  बजट सत्र के स्थगित होने का कारण कोरोना वायरस बताया गया है. इससे पूर्व बेहद गहमागहमी के बीच राज्यपाल के अभिभाषण के साथ सदन की कार्यवाही शुरू हुई. राज्यपाल लालजी टंडन ने एक मिनट में ही अपना अभिभाषण खत्म कर दिया.  राज्यपाल श्री टंडन  ने अपने भाषण में कहा, जिसका जो दायित्व है वो उसका निर्वहन करे. सभी संविधान और परंपरा का पालन करें. मध्य प्रदेश के गौरव की रक्षा हो.

कार्रवाई स्थगित करने का कारण कोरोना को बताया

राज्यपाल  भाषण खत्म कर रवाना हो गए. इसके बाद  सदन में इसके बाद हंगामा शुरू हो गया. नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने राज्यपाल का पत्र पढ़ा, जिस पर स्पीकर एनपी प्रजापति ने कहा मुझसे पत्राचार नहीं हुआ है. उसके बाद दोनों पक्षों से नारेबाजी होने लगी.  सदन की कार्यवाही पहले 10 मिनट के लिए स्थगित की गयी. उसके बाद स्पीकर एनपी प्रजापति ने कोरोना वायरस की वजह से एहतियात के तौर पर सदन की कार्यवाही 26 मार्च तक के लिए स्थगित करने का ऐलान कर दिया.

बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की

भारतीय जनता पार्टी ने विधानसभा में कमलनाथ सरकार को अल्पमत में बताते हुए फ्लोर टेस्ट की मांग वाली याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की है. पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ओर से दायर इस याचिका में अगले 48 घंटों के भीतर  विधानसभा में फ्लोर टेस्ट कराने की मांग की गई है.
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments