Covid-19 Vaccination का प्रधानमंत्री मोदी ने किया शुभारंभ, कहा-टीकाकरण कार्यक्रम मानवीय सिद्धांतों पर आधारित

Covid-19 Vaccination : नई दिल्ली. पीेएम नरेन्‍द्र मोदी ने  दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण कार्यक्रम का आज वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि कहा है कि भारत का कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम मानवीय सिद्धांतों पर आधारित है। उन्‍होंने कहा कि इसमें उन लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी जिन्‍हें संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा है।

श्री मोदी ने कहा कि अभियान के पहले चरण में 3 करोड़ लोगों का टीकाकरण किया जाएगा। उन्‍होंने कहा कि दूसरे चरण में 30 करोड़ लोगों को टीके लगाए जाएंगे। पीएम ने कोरोना टीका बनाने में जुटे वैज्ञानिकों की सराहना करते हुए कहा कि इतने कम समय में देश में दो टीके तैयार करना गर्व की बात है। श्री मोदी ने कहा कि भारत में बने टीके दूसरे देशों के टीकों से सस्‍ते हैं, लेकिन उनकी गुणवत्‍ता में कोई कमी नहीं हैं।

उन्‍होंने कहा कि दूसरे देशों में बने कुछ टीकों की एक खुराक की कीमत 5 हजार रूपये तक हैं जबकि भारत में इनकी कीमत काफी कम है। उन्‍होंने कहा कि वैज्ञानिकों ने भारत में बने टीकों के प्रभावों से संतुष्‍ट होने के बाद ही इन्‍हें मंजूरी दी है। प्रधानमंत्री ने कहा कि टीके की 2 खुराक लेना जरूरी है और इन दोनों के बीच लगभग एक महीने का अंतर होना चाहिए। टीके की दूसरी खुराक के केवल दो सप्‍ताह बाद प्रतिरक्षक क्षमता विकसित हो जाएगी।

श्री मोदी ने कहा कि भारत, आत्‍मविश्‍वास और आत्‍मनिर्भरता के साथ  कोविड महामारी से निपटा है। महामारी के दौरान स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों और संक्रमण के जोखिम की आशंका वाले अन्‍य कर्मचारियों के सामने आई दिक्कतों का भी उल्लेख किया। उन्‍होंने कहा कि भारत इस महामारी से जिस तरह निपटा उसकी दुनियाभर में सराहना हुई है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत शुरू में ही एयरपोर्ट पर यात्रियों की जांच करने वाले देशों में शामिल था। इस बारे में पिछले वर्ष 17 जनवरी को पहला परामर्श जारी किया गया था। उन्‍होंने  कहा कि इसके बाद लगाया गया जनता कर्फ्यू महामारी के खिलाफ समाज के संयम और अनुशासन की परीक्षा था जिसमें देशवासी सफल हुए।

एम्स अस्पताल में पहली वैक्सीन लगवाने वाले सफाई कर्मचारी मनीष कुमार ने कहा, ”मेरा अनुभव बहुत ही अच्छा रहा है, वैक्सीन लगने से मुझे कोई झिझक नहीं होगी और मैं अपने देश की और सेवा करता रहूंगा। मेरे मन में जो डर था वो भी निकल गया। सबको वैक्सीन लगवानी चाहिए। हेल्थ मिनिस्टर डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई पहले ही जीत के रास्ते पर है और वैक्सीन को संजीवनी की तरह याद रखा जाएगा।

इसे भी पढ़ें – कोविड-19 वैक्सीनेशन : प्रधानमंत्री मोदी 16 जनवरी को दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का शुभारंभ करेंगे

Twitter _  https://twitter.com/babapost_c

Facebook _ https://www.facebook.com/baba.post.338/

Leave a Reply

Your email address will not be published.