Saturday, October 23, 2021
HomeNewsगृहमंत्री शाह के साथ मोदी से मिलने के बाद सिंधिया ने दिया...

गृहमंत्री शाह के साथ मोदी से मिलने के बाद सिंधिया ने दिया इस्तीफा, आंकड़ों में बीजेपी मजबूत

  • पीएम से मुलाकात के बाद सिंधिया ने दिया इस्तीफा
  • 20 विधायकों ने भी कांग्रेस से दिया इस्तीफा

कांग्रेस (Congress) से इस्तीफा देने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हो सकते हैं. सिंधिया जब गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से मिलने पहुंचे,  उसके बाद से उनके बीजेपी में शामिल होने की अटकलें शुरू हो गईं. सिंधिया प्रधानमंत्री से मिलने के लिए अमित शाह की गाड़ी से गए और उसी में वापस लौटे. पीएम से मिलने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखा उनका इस्तीफा भी सामने आया, सिंधिया ने खुद टि्वट कर अपने इस्तीफे की जानकारी दी है.

इस्तीफे मे 9 मार्च की तारीख थी. सिंधिया ने इस इस्तीफे में कहा है कि वे जनसेवा के लिए राजनीति में आए हैं और बीते कुछ समय से कांग्रेस में रहते हुए ऐसा नहीं कर पा रहे थे.  सिंधिया के इस्तीफे के बाद उनके खेमे के 20 कांग्रेस विधायकों ने भी इस्तीफे दे दिए हैं.

इस बीच सपा और बसपा के एक-एक विधायक ने मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से उनके घर जाकर मुलाकात की. खबर है कि वे दोनों भी बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने के बाद उनके समर्थक माने जाने वाले विधायकों ने राज्यपाल के पास इस्तीफा भेज दिया है. कहा जा रहा है कि सिंधिया बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक, ज्योतिरादित्य सिंधिया को बीजेपी राज्यसभा भेज सकती है और इस तरह उन्हें संसद सत्र के बाद कैबिनेट विस्तार कर मोदी सरकार में शामिल किया जा सकता है.

इसे भी पढ़े-मध्यप्रदेश कांग्रेस में कलह, मंत्रियों ने सौंपे इस्तीफे, दोबारा केबिनेट गठन करने के संकेत

 

कांग्रेस में हलचल

सिंधिया के इस्तीफे से कांग्रेस में हलचल है. लोकसभा में नेता विपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि अब मध्य प्रदेश में हमारी सरकार नहीं बच पाएगी. हालांकि, एमपी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कांतिलाल भूरिया को अब भी कांग्रेस सरकार बचने का भरोसा है. सिंधिया के इस्तीफे के बीच कांतिलाल ने भोपाल में मुख्यमंत्री कमलनाथ से मुलाकात की. मुलाकात के भूरिया ने भरोसा जताया कि कांग्रेस सरकार मजबूत है और यह चलती रहेगी.

बीजेपी ने बुलाई बैठक

कांग्रेस की हालत को देखते हुए बीजेपी ने सरकार बनाने की तैयारी शुरू कर दी है. मंगलवार को बीजेपी की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के साथ बीजेपी संसदीय बोर्ड की बैठक भी बुलाई गई है.

इसे भी पढ़े-कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बाद ईरान ने 70 हजार कैदियों को रिहा किया

आंकड़ों में बीजेपी मजबूत

मध्य प्रदेश में 230 विधानसभा सीटें हैं. यहां 2 विधायकों का निधन हो गया है. कांग्रेस के पास कुल 121 विधायकों का समर्थन हासिल था, जिनमें से 21 ने इस्तीफे दे दिए हैं. यानी अब कांग्रेस के पास 100 विधायकों का ही समर्थन रह गया है. जबकि बीजेपी के पास अपने 107 विधायक हैं. 21 विधायकों के इस्तीफे के बाद विधानसभा की संख्या 207 रह जाएगी, जिसके लिहाज से बहुमत के लिए 104 विधायकों की जरूरत होगी. ऐसे में आंकड़ों के हिसाब से बीजेपी की स्थिति कांग्रेस से मजबूत है.

 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments