Sunday, October 17, 2021
HomeNewsयस बैंक संकट से परेशान हैं जगन्नाथ मंदिर के श्रद्धालु और पुजारी

यस बैंक संकट से परेशान हैं जगन्नाथ मंदिर के श्रद्धालु और पुजारी

  • इस बैंक में मंदिर के 592 करोड़ जमा
  • रिजर्व बैंक ने लगाई ज्यादा निकासी पर पाबंदी

संकट से जूझ रहे यस बैंक (Yes Bank) से एक महीने में केवल 50 हजार रुपए निकासी की सीमा तय होने के बाद इस मंदिर के पुजारी और श्रद्धालुओं की चिंता बढ़ गई है. ओडिशा के पुरी स्थित भगवान जगन्नाथ मंदिर (Jagannath Mandir) के यस बैंक (Yes Bank)) में 592 करोड़ रुपए जमा हैं. यस बैंक का नई पूंजी जुटाने की कोशिश विफल रही. जिससे उसका संकट गहरा गया.  इसके चलते रिजर्व बैंक ने इस बैंक पर कई तरह की पाबंदी लगाई है.

यस बैंक के ग्राहकों के लिए बुरी खबर, एक महीने तक केवल इतनी रकम…

शिकायत पर कार्रवाई नहीं हुई

पुरी के इस मंदिर के दैतापति (सेवक) विनायक दास महापात्रा ने कहा कि रिजर्व बैंक द्वारा यस बैंक पर पाबंदी लगाए जाने से सेवक और श्रद्धालु आशंकित हैं. उन्होंने कहा, हम उन लोगों के खिलाफ जांच की मांग करते हैं जिन्होंने ज्यादा ब्याज के लालच में निजी क्षेत्र के बैंक में इतनी बड़ी राशि जमा कराई.  जगन्नाथ सेना के संयोजक प्रियदर्शी पटनायक ने कहा, भगवान के धन को निजी क्षेत्र के बैंक में जमा कराना न केवल गैर- कानूनी है बल्कि यह अनैतिक भी है.  श्रीजगन्नाथ मंदिर प्रशासन (SJTA) और मंदिर की प्रबंधन समिति इसके लिए जिम्मेदार है.’’ उन्होंने बताया कि निजी बैंक में पैसा जमा कराने के मामले में पुरी के पुलिस थाने में शिकायत दर्ज की गई थी लेकिन उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई.

कोष को राष्ट्रीयकृत बैंक में स्थानांतरित करेंगे – मंत्री

विधि मंत्री प्रताप जेना ने कहा कि यह पैसा बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट (Fix Deposit) के रूप है. उन्होंने कहा कि सरकार ने परिपक्वता अवधि इस महीने समाप्त होने के बाद कोष को यस बैंक से किसी राष्ट्रीयकृत बैंक में स्थानांतरित करने का फैसला किया है.

Statement Odisha Minister

 

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments