जारी आदेश के अनुसार जनपद पंचायत नगरी की ग्राम पंचायत बोड़रा में पदस्थ पंचायत सचिव अनिता कश्यप का निलंबन किया गया था, जिस पर बहाल करते हुए ग्राम पंचायत मोदे में उन्हें पदस्थ किया गया है। आदेश में उल्लेख किया गया है कि उक्त सचिव के विरूद्ध आरोपों की पुष्टि होने के फलस्वरूप छत्तीसगढ़ पंचायत सेवा (अनुशासन एवं अपील) नियम 1999 के नियम 5(क)(दो) के तहत संचयी प्रभाव से दो वेतन-वृद्धि रोकी जाती है।

छत्तीसगढ़ के इन जिलों में खुलेंगे 10 नए कॉलेज, राज्य शासन ने 330 पदों के लिए दी मंजूरी

इसी तरह जनपद पंचायत कुरूद की ग्राम पंचायत दरबा के निलंबित सचिव ज्ञानेन्द्र चंद्राकर को बहाल करते हुए उन्हें ग्राम पंचायत कुहकुहा में पदस्थ किया गया है। उनके विरूद्ध आरोपों की पुष्टि होने पर उनकी भी दो वेतन-वृद्धि असंचयी प्रभाव से रोकने का आदेश जिला पंचायत की सीईओ ने जारी किया है। इसके अलावा जनपद पंचायत मगरलोड की ग्राम पंचायत बोरसी (राजपुर) के निलंबित सचिव नूरेन्द्र निषाद को बहाल किया गया है। उनकी भी एक वेतन-वृद्धि असंचयी प्रभाव से रोकने का आदेश जिला पंचायत के सीईओ ने जारी किया है।

Twitter _  https://twitter.com/babapost_c

Facebook _ https://www.facebook.com/baba.post.338/

YouTube_सबस्क्राइब करें यूट्यूब चैनल