Sunday, October 17, 2021
HomeNewsयस बैंक के ग्राहक क्रेडिट या लोन के किस्तों का कर सकते...

यस बैंक के ग्राहक क्रेडिट या लोन के किस्तों का कर सकते हैं भुगतान

यस बैंक (Yes Bank) के ग्राहक अपने क्रेडिट कार्ड (Credit Card) और लोन (Loan) की किस्तों के बकाए का 2 लाख रुपये से अधिक का भुगतान दूसरे बैंक से ऑनलाइन कर सकते हैं. यस बैंक ने बुधवार को टि्वट कर इसकी जानकारी दी. यस बैंक ने एक ही दिन पहले क्रेडिट कार्ड या कर्ज के बकाये के भुगतान के लिए अन्य बैंक के खातों से आईएमपीएस (IMPS) और एनईएफटी (NEFT) की सुविधा पुन: शुरू की थी.  अब बैंक ने इस तरह के भुगतान के लिये RTGS सेवाएं भी शुरू कर दी है. RTGS से 2 लाख से अधिक के भुगतान किये जा सकते हैं. वहीं NEFT से 2 लाख तक के भुगतान की ही सुविधा है.

इसे भी पढ़े-भाजपा ज्वाइन करते ही राज्यसभा के लिए उम्मीदवार घोषित किए गए सिंधिया

बैंक ने  टि्वट में कहा, यस बैंक के बकायों के भुगतान के लिए RTGS सेवाएं शुरू कर दी गई हैं. अब आप किसी अन्य बैंक के खाते से यस बैंक के क्रेडिट कार्ड अथवा कर्ज की बकाया किस्तों का भुगतान कर सकते हैं.

yes bank_twitt
yes bank_twitt

ऑनलाइन भुगतान पर पाबंदी जारी

रिजर्व बैंक (Reserve Bank) ने कुप्रबंधन के कारण  यस बैंक (Yes Bank) का नियंत्रण अपने हाथों में ले लिया है. इसके बाद 5 मार्च से 3 अप्रैल की अवधि तक के लिए यस बैंक के उपभोक्ताओं के ऊपर अधिकतम 50 हजार रुपये निकालने की सीमा तय कर दी गई है.  यस बैंक के खाते से ऑनलाइन भुगतान पर पाबंदी अब भी जारी है.

इसे भी पढ़े-कोरोना वायरस से बचने पी ली जहरीली शराब, 44 लोग मरे, फैली थी अफवाह

राणा कपूर की हिरासत 16 मार्च तक बढ़ाई

यस बैंक (YES Bank) के संस्थापक राणा कपूर की हिरासत की अवधि मुंबई की एक विशेष अदालत ने 16 मार्च तक के लिए बढ़ा दी. प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) ने मनी लॉड्रिंग (Money Laundering) के आरोप में राणा कपूर को हिरासत में लिया है. पूर्व में हिरासत अवधि 11 मार्च तक की थी. समयसीमा समाप्त होने के मद्देनजर ईडी ने कपूर को न्यायमूर्ति पीपी राजवैद्य की विशेष अदालत में पेश किया.

मनी लाड्रिंग रोकथाम अधिनियम संबंधी मामलों की सुनवाई करने वाली इस विशेष अदालत को ईडी ने सुनवाई के दौरान बताया कि कपूर ने अपने कार्यकाल में विभिन्न निकायों को 30 हजार करोड़ रुपए के कर्ज आवंटित किए. ईडी ने कहा, इनमें से 20 हजार करोड़ के कर्ज एनपीए (NPA) बन गये. इसकी सूक्ष्म जांच के लिए ईडी ने अदालत से हिरासत अवधि बढ़ाने की मांग की. अदालत ने ईडी की मांग के बाद हिरासत अवधि को 16 मार्च तक के लिए बढ़ा दिया.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments