Saturday, June 25, 2022
HomeDharm-KarmNirjala Ekadashi 2022 : निर्जला एकादशी कब है? व्रत के नियम, शुभ...

Nirjala Ekadashi 2022 : निर्जला एकादशी कब है? व्रत के नियम, शुभ मुहूर्त, तिथि के बारे में जानें

Nirjala Ekadashi 2022 : निर्जला एकादशी 2022 कब है : हिंदू धर्म शास्त्रों के अनुसार एकादशी तिथि (Ekadashi Tithi) का काफी महत्व है। हर माह में 2 और, साल में 24 एकादशी तिथि होती है। इसमें ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को निर्जला एकादशी या भीमसेनी एकादशी भी कहा जाता है।  निर्जला एकादशी का महत्व सर्वाधिक है। एकादशी के दिन भगवान श्री विष्णु की पूजा अर्चना की जाती है।  यहां जानते हैं निर्जला एकादशी 2022 का मुहूर्त, डेट और पूजा विधि के बारे में।

इस दिन है निर्जला एकादशी 2022

शुक्रवार, 10 जून, 2022 को निर्जला एकादशी व्रत का पालन किया जाएगा।

निर्जला एकादशी 2022 मुहूर्त

  • एकादशी तिथि प्रारम्भ –  शुक्रवार 10 जून, 2022 को 07:25 एएम बजे से
  • एकादशी तिथि समाप्त – शनिवार 11 जून 2022 को 05:45 एएम बजे तक
  • पारण  – 01:44 पीएम से 04:32 पीएम
  • हरि वासर – 11:09 एएम

व्रत नियम

इस व्रत का पालन करने के दौरान जल का सेवन नहीं करने का विधान माना गया है।ऐसे कहा जाता है कि  निर्जला एकादशी का व्रत रखने सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। भगवान श्री विष्णु की कृपा से सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है।

यह है पूजन विधि

  • ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करें।
  • पूजा स्थल पर अगरबत्ती, दीप प्रज्जविलत करें।
  • भगवान विष्णु का गंगा जल अभिषेक कर फूल और तुलसी दल समर्पित करें। साथ ही माता लक्ष्मी की पूजा अर्चना करें।
  • सामर्थ्य अनुसार व्रत का पालन करें।
  • भगवान की आरती करें।
  • भोग में तुलसी पत्र रखकर इसे भगवान के अर्पित करें।
  • भगवान विष्णु के मंत्रों का जप करें।
  • हर प्रकार के संयम का पालन करें।

पूजन सामग्री

पूजन के दौरान लगने वाली सामग्रियों में श्री विष्णु जी का चित्र अथवा मूर्ति, पुष्प, नारियल, सुपारी, फल, लौंग, दीप, घी, पंचामृत, अक्षत, तुलसी दल, चंदन, भोग प्रसाद शामिल हैं।

वास्तु टिप्स: ये शुभ संकेत मिल रहे हैं तो समझिए आप पर होगी मां लक्ष्मी की कृपा

RELATED ARTICLES

Most Popular