ये 3 शुभ योग बनाते हैं धनवान..

ज्योतिष

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में ग्रहों की युति से शुभ और अशुभ दोनों प्रकार के योग बनते हैं।

ज्योतिष

ग्रहों की कुंडली में शुभ या अशुभ स्थिति को देखकर जातक की दिक्कतों, धन-दौलत, सम्मान आदि के बारे में विचार कर फल ज्ञात किया जाता है।

ज्योतिष

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यहां 3 शुभ योगों के बारे में जानेंगे  जिनके कुंडली में बनने से जातक बेहद ही धनवान, समृद्धिवान,  सुखी होता है।

1. शश योग

कुंडली में शनि के पहले, चौथे, सातवें या दसवें भाव में  या स्वराशि मकर या कुंभ में विराजमान होने से शश योग बनता है। यह एक प्रकार का राजयोग भी कहा जाता है।

2. दिव्य योग

कुंडली में गुरु स्वराशि यानी धनु या मीन में हो या अपनी उच्च राशि के केंद्र स्थान में उपस्थित हो तो दिव्य योग बनता है। इस योग के बनने से सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है।

3. रूचक योग

कुंडली में मंगल केंद्र स्थान यानी पहले, चौथे, 7वें या 10वें भाव में होता है या अपनी उच्च राशि मकर, मेष में होता है रुचक योग बनता है। यह भी राजयोग के समान है।